Saturday, August 10, 2019

बरसों से इंतेज़ार था...



Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

इस हुंकार का,
इस दहाड़ का,
बरसों से इंतेज़ार था I

मिट्टी के इस आकार का,
सपनों के इस साकार का,
बरसों से इंतेज़ार था I

दूरियों के मिटने का और...
लकीरों के सिमटने का,
बरसों से इंतेज़ार था I

14 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 10/08/2019 की बुलेटिन, "मुद्रा स्फीति के बढ़ते रुझानों - दाल, चावल, दही, और सलाद “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. इस सम्मान के लिए बहुत आभार शिवम जी I

    ReplyDelete
  3. वाह !बेहतरीन सृजन सर
    सादर

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ओंकार जी !

      Delete
  5. सही कहा नीरज भाई की इस हुंकार का बहुत इंतजार था। सुंदर प्रस्तूति।

    ReplyDelete
  6. ... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति है ।

    ReplyDelete